प्रोग्रामिंग भाषा अनुवादक क्‍या है ? what is translator in computer in Hindi

Table of contents (toc)


प्रोग्रामिंग भाषा अनुवादक क्‍या है ? (what is translator in computer in Hindi)

प्रोग्रामिंग भाषा अनुवादक (Translator), वे program होते हैं, जो एक language में बने program को दूसरी language में बदलते हैं। सामान्यतः Programming Language user को program तैयार करने और उनमें संशोधन करने की सुविधा देती है, परंतु कंप्यूटर इन programs को तब तक कार्यान्वित नहीं कर सकता है, जब तक कि इन्हें मशीनी language में न बदला जाए। process पूरी होने के बाद, पुनः मशीनी language में लिखे गए इन निर्देशों को user के लिए इनकी मूल language के रूप में बदला जाता है। ये सभी कार्य Translator द्वारा किये जाते हैं। इन्हें language processors के नाम से भी जाना जाता है।

प्रोग्रामिंग भाषा अनुवादक (Translators) तीन प्रकार के हो सकते हैं - 
  1. Assembler 
  2. Compiler
  3. Interpreter

अस्सेम्ब्लर क्या है ? (what is Assembler) 

जब कंप्यूटर की machine language के अलावा किसी अन्य language में program लिखा जाता है, तब उसे कंप्यूटर नहीं समझ पाता है। तब उसके क्रियान्वित होने से पहले उस program का अनुवाद कंप्यूटर की machine language में होना चाहिए। इस तरह का अनुवाद एक software की सहायता से होता है।

एक program जो कि assembly language के program को machine language के program में अनुवादित करता है, वह assembler कहलाता है।

ऐसा assembler जो जिस कंप्यूटर के लिए object codes तैयार करता है, उसी पर run होता है, वो self assembler कहलाता है। एक कम क्षमता वाले तथा सस्ते कंप्यूटर में, program बनाने तथा सुविधाजनक असेंबली के लिए पर्याप्त software और hardware नहीं होते हैं।

इस स्थिति में, एक तेज गति वाला तथा अधिक क्षमता वाला कंप्यूटर का ही program के विकास के लिए उपयोग हो सकता है। 

प्रोग्रामिंग भाषा अनुवादक क्‍या है ? what is translator in computer in hindi
Process of Translation by Assembler

कम्पाइलर क्या है ? (what is Compiler)

चूँकि एक कंप्यूटर hardware मशीन-स्तर के निर्देश को ही समझने में सक्षम है। अतः कंप्यूटर के द्वारा उन निर्देशों को क्रियान्वित करने से पूर्व उनका बदला जाना (अनुवाद) आवश्यक होता है।

High level language की स्थिति में यह कार्य एक compiler द्वारा किया जाता है।

Compiler एक अनुवाद करने वाला program है। यह high level language के निर्देश को machine language में अनुवाद करता है। इसे compiler कहा जाता है क्योंकि यह high level language के program संबंधी निर्देश में प्रयुक्त machine language के निर्देशों के set को compile करता है।

एक program द्वारा high level language में लिखा गया program, source program कहलाता है। एक compiler द्वारा इस source program को machine language में परिवर्तित करने के पश्चात एक object program बनता है।

Compiler बड़े program होते हैं जो कि कंप्यूटर की secondary memory में स्थायी रूप से संचयित होते हैं। जब एक program का अनुवाद होने वाला होता है तब वे कंप्यूटर की मुख्य memory (RAM) में copy हो जाते हैं।

Process of Translation by Compiler 

 
 एक compiler source program में निम्नांकित गलतियाँ ढूंढ सकता है - 
  • Illegal characters
  • Illegal combination of characters
  • Improper sequencing of instruction in a program 

यद्यपि एक compiler तार्किक त्रुटियों का पता नहीं लगा सकता है। यह मात्र program system संबंधी त्रुटियों का पता लगा सकता है।


इंटरप्रेटर क्या है ? (What is Interpreter)

Interpreter एक अन्य प्रकार का अनुवादक है, जो high level language का machine code में अनुवाद करता है। यह high level language के एक निर्देश को लेकर उसका machine निर्देश में अनुवाद करता है, जो कि तुरंत क्रियान्वित होने वाला हो। 

Interpreter एक निर्देश का अनुवाद कर उसे नियंत्रण ईकाई को भेजता है। यह इकाई प्राप्त machine code का क्रियान्वयन करती है। तत्पश्चात अगले निर्देश का अनुवाद होता है तथा नियंत्रण ईकाई प्राप्त machine code कोक्रियान्वित करती है। यह प्रक्रिया इसी तरह चलती है।

एक compiler केवल पूरे source program का object program में अनुवाद करता है और इसके क्रियान्वयन में भाग नहीं लेता। compiler और interpreter में यही भिन्नता है।

आपने क्या सीखा?

अगर आप से कोई यह सवाल करे कि What is Translator in computer and also explain its types? या प्रोग्रामिंग भाषा अनुवादक से जुड़े सवाल हो तो आप इस जानकारी के साथ जवाब दे सकते हैं। अगर आपको यह जानकारी काम की लगी है तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर share करें। 

और अगर लेख आपको पसंद आई है तो नीचे आप share बटन दबा कर इस लेख को शेयर कर सकते हैं।


Tags

Post a Comment

2 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !